गुरुवार को ऐसे करें श्री हरि की पूजा, सभी मनोकामनाएं होंगी पूरी

गुरुवार का दिन भगवान विष्णु को समर्पित होता है. इस दिन विष्णु भगवान की इस उपाय से पूजा करने से वे प्रसन्न होते हैं और भक्त की मनोकामना पूरी करते हैं. आइये जानें उपाय के साथ –साथ शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्त्व. Lord  हिंदू पंचांग के अनुसार आज वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि दिन गुरुवार है. यह दिन भगवान विष्णु को समर्पित होता है. इस दिन भगवान विष्णु को अपना आराध्य देव मानकर विधि-विधान से पूजा करने पर भक्त को कभी धन की कमी नहीं होती है. पुराणों के अनुसार, भगवान विष्णु की पूजा करने से मां लक्ष्मी बहुत प्रसन्न होती हैं और जब मां लक्ष्मी एक बार प्रसन्न हो जाएँ तो उस भक्त के घर परिवार में कभी धन की कमी नहीं होती है. साथ ही भक्त को धन, यश, सम्मान और वैभव की प्राप्ति होती है. आइये जानें भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए सरल पूजा विधि या उपाय.

गुरुवार के दिन भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के उपाय

1. गुरुवार के दिन सुबह उठकर दैनिक कार्य से निवृत होकर घर के मंदिर या पूजा स्थल में बैठें. पूजा की चौकी पर भगवान विष्णु की मूर्ति स्थापित कर उनके सामने घी का दीपक जलाएं. फिर बीज मंत्र का 108 बार जप करें. ऐसा करने से भगवान विष्णु के साथ मां लक्ष्मी भी बहुत प्रसन्न होती है और भक्त की मनोकामना पूरी करते हैं. गुरुवार के दिन भगवान विष्णु की पूजा करने से धन की कमी नहीं होती है.

बीज मंत्र- ‘ॐ बृं बृहस्पतये नम:’

2. भगवान विष्णु को पीला और लाल वस्त्र बेहद प्रिय है. उपासक को गुरुवार के दिन भगवान विष्णु की पूजा करते समय पीला वस्त्र धारण करना चाहिए और हल्दी का टीका लगाना चाहिए. इससे विष्णु भगवान खुश होते हैं और अपना आशीर्वाद भक्त पर बरसाते हैं.

3. गुरूवार के दिन केले के पौधे के सामने घी का दीपक जलाकर भगवान विष्णु की स्तुति करनी चाहिए. इससे भगवान विष्णु की कृपा बनी रहती है.

विष्णु भगवान को प्रसन्न करना है तो ऐसे करें पूजा

गुरुवार को ऐसे करें श्री हरि की पूजा, सभी मनोकामनाएं होंगी पूरी

अगर चाहते है भगवान हरि

ऐसे करें गुरुवार को विष्णु पूजा, सभी मनोकामनाएं होंगी पूरी

About rongerwev

Check Also

तुलसी का पौधा कैसे आपका भाग्य बदल सकता है – जाने

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार नियमित रूप से तुलसी की पूजा करने से मोक्ष की प्राप्ति …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *